Saturday, 15 March 2014

सतरंगी होली



सतरंगी होली की हार्दिक शुभकामनाएँ

स्नेह के रंग
पकवानों के संग
खेलंगे हम |

प्रेम के रंग
रंग दे अंतर्मन
खिले सुमन |

मेरे मोहन
रंग दे तनमन
रंगेज बन |

कोरा था उर
मिलकर तुमसे
हुआ रंगीन |

फाग उत्सव
राधा गोपियों संग
श्याम मगन |

रंग अंतस
तेरी छवि बसा ली
बांकेबिहारी |

राधा ने मारी
नैनो की पिचकारी
रंगे मोहन |

ली अंगडाई
फागुन रुत आई
धरा लजाई |

रंग गुलाल
लगा गौरी के गाल
कर धमाल |

फुल तितली
रंग भरी जिंदगी
हवा महकी |

गुलाबी भोर
गुलमोहर संग
टेसू महके

रंग हैं लाल
रक्त हैं या गुलाल
रखना ख्याल |

फागुन गाये
प्रभात संग पंछी
सुर मिलाये |

अम्बर रूठा
धरा खेले ना होली
फागुन झूठा |

इन्द्रधनुषी
टेसू रंग बिखेरे
अवनि रंगी |

प्रीत की पाती
टेसू रंग से लिखी
पिया के नाम |

स्वप्न थे छिन्न
रंगों में थी उदासी
होली के दिन |

जीतेन्द्र "नील"
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...